What is IPV4 and ipv6|what is ip address in Hindi|ipv4 vs ipv6

IP address क्या है IPV4 में कितने क्लास होते हैं?






ip address 127.0.0.1
IP address kya hota hai

दोस्तो जैसे अगर हमें किसी को कोई पार्सल भेजना चाहते हैं तो सबसे पहले हमें उस व्यक्ति का सही एड्रेस हमारे पास होना चाहिए ताकि हम उस उसके सही एड्रेस पर पार्सल भेज सके और वो रिसीव भी कर ले ठीक इसी तरह कंप्यूटर को भी किसी दूसरे कंप्यूटर के पास डेटा सेंड करने के लिए एक यूनिक आइडेंटीफिकेशन एड्रेस कि जरुरत होती है जिससे एक कंप्यूटर दूसरे कंप्यूटर से डेटा आदान प्रदान कर सके इसी को आईपी एड्रेस कहते हैं.आईपी एड्रेस का फूल फॉर्म इंटरनेट प्रोटोकॉल है  किसी भी एक नेटवर्क में आईपी एड्रेस हर एक कंप्यूटर की अलग अलग होती है और हर कंप्यूटर की आईपी यूनिक होती है एक नेटवर्क में किसी भी दो कंप्यूटर की आईपी सेम नहीं हो सकती है.

इंटरनेट पर जितने भी device होते हैं सब के पास एक यूनिक आईपी होता है कुछ प्राइवेट और लोकल एड्रेस को छोड़ कर जो यूनिक नहीं हो सकते हैं.
दोस्तो किसी भी नेटवर्क में सिर्फ एक ही नेटवर्क एड्रेस का उपयोग किया जा सकता है जैसे कि हम जानते हैं कि किसी भी device की दो एड्रेस होते हैं

1.फिजिकल एड्रेस, Example hardware ADDRESS {MAC एड्रेस}

2.Logical or software Address,for example IP address


किसी भी एक नेटवर्क में जुड़े device (कंप्यूटर,मोबाइल,प्रिंटर) के लिए आईपी एड्रेस यूनिक होता है मतलब हर किसी का आईपी एड्रेस अलग अलग होगा.


1.IPV4 क्या है





दोस्तो ipv4 एड्रेस 32 बाइनरी बीत का होता है. IPv4 को डिसिमाल फॉर्मेट में लिखा जाता है इसमें 4 ऑक्टेट होते हैं और हर एक ऑक्टेक्ट में 8 बीत होते हैं और हर एक अक्टेट एक डॉट(.) से अलग किया जाता है तो कुल (8*4 =32) मिलाकर 32 बीत हो जाता है.दोस्तो कंप्यूटर बाइनरी नंबर पर काम करता है और हमें बाइनरी नंबर के साथ काम करने में कठिनाई होगी इसलिए कंप्यूटर आईपी एड्रेस को डिसिमल फॉर्मेट में बदल कर हमें डिस्प्ले पर शो करता है ताकि हम समझ सके और हमें काम करने में कोई परेशानी ना हो.

IPV4 classes in Hindi 


internet protocol version 4 ke protocol
IPV4 classes


इंटरनेट प्रोटोकॉल वर्जन 4 को कुल 5 क्लासेज के बाटा गया है.हर एक क्लास एक लिमिट साइज के नेटवर्क को सपोर्ट करता है और यह अल्फाबेट के A से E लेटर्स से रिप्रेजेंट किया जाता है.हर एक क्लास में होस्ट और नेटवर्क की संख्या अलग अलग होती है.क्लास A, B, C बड़े और छोटे दोनों तरह के नेटवर्क के हिसाब से उपयोग किए जाते हैं.क्लास D और E को हम उपयोग नहीं कर सकते; क्लास D को multicast के लिए उपयोग किया जाता है वहीं क्लास E रिसर्च और एक्सपेरिमेंट के लिए रिजर्व है.

ज्ञान बढाए 


आईपी एड्रेस में Host address और Network address क्या होते हैं? 





एक आईपी एड्रेस किसी भी क्लाइंट के होस्ट आईडी और नेटवर्क आईडी की जानकारी देती है. आईपी एड्रेस का कुछ भाग नेटवर्क आईडी ( लोकल एरिया नेटवर्क,इंटरनेट) और कुछ भाग होस्ट आईडी (कंप्यूटर,प्रिंटर) को बताता है.नेटवर्क आईडी एक ही फिजिकल नेटवर्क से कनेक्ट host ko identify करती है.जितने भी होस्ट की नेटवर्क आईडी सेम होती हैं वो एक दूसरे से कम्युनिकेट कर सकते है फाइल और इंफॉर्मेशन शेयर कर सकते हैं.

क्लास A में पहला ओक्टेट नेटवर्क आईडी को शो करता है और तीन आॅक्टेट होस्ट आईडी को शो करते हैं.क्लास B में चारो ऑक्टेत बराबर बराबर होस्ट और नेटवर्क आईडी को शो करते हैं मतलब 2 अक्टेत नेटवर्क आईडी और 2 ऑक्टेक होस्ट आईडी को शो करता है.क्लास सी में पहले 3 आक्टेट नेटवर्क आईडी को और लास्ट का 1 ओक्टेत होस्ट आईडी को शो करता है.

host id and network id explanation in jetking
Host and network id


दोस्तो किसी भी क्लास की आईपी एड्रेस की नेटवर्क आईडी और होस्ट आईडी निकालने का एक फॉर्मूला होता है
(2^n-2) जहा n होस्ट और नेटवर्क bits की मैक्सिम संख्या को दर्शाता है.

Class A addresses


क्लास A का पहला आॅक्टेत नेटवर्क आईडी को और तीन आक्टेत होस्ट आईडी को शो करता है ज्यादा होस्ट आईडी होने की वजह से क्लास A की आईपी ज्यादा होस्ट को सपोर्ट करती है.0 और 127 को हम नेटवर्क आईडी के लिए उपयोग नहीं करते हैं इसलिए क्लास A में कुल नेटवर्क की संख्या 126 है और कुल होस्ट की संख्या 16,777,214 क्लास A के हर एक नेटवर्क में होती है.आप नीचे फोटो में क्लास A के सबनेट मास्क को देख सकते हैं
class A address


CLASS B addresses


क्लास में पहले दो octets नेटवर्क आईडी को और लास्ट के दो अक्टेत् होस्ट आईडी को दिखाते हैं.क्लास B में पहले दो बिट्स हमेशा 0 या 1 होते हैं इससे क्लास B में अधिकतम नेटवर्क की संख्या 16,384 और होस्ट की कुल संख्या 65,534 होती हैं क्लास B के आईपी हम बड़े और छोटे दोनों तरह के नेटवर्क के लिए उपयोग कर सकते हैं.इमेज में आप क्लास के आईपी एड्रेस और सबनेट मास्क को देख सकते हैं.


ipv4 class b address in hindi
Class B address


Class C addresses


क्लास C में पहले तीन अक्ट नेटवर्क आईडी को और लास्ट एक octet host आईडी को दिखाते हैं.क्लास सी में बाए तरफ से एड्रेस को हमेशा 110 सेट किया जाता है इससे यह 21 बिट नेटवर्क आईडी के लिए और 8 बिट होस्ट आईडी के लिए होता है जिससे अधिकतम 2,097,152 नेटवर्क आईडी और 254 होस्ट आईडी होता है.इमेज में आप क्लास सी के आईपी एड्रेस और subnet मास्क को देख सकते है.


class c address in ipv4
class C address

दोस्तो क्लास D और क्लास E को हम यूज नहीं कर सकते और ना ही उनका नेटवर्क आईडी और होस्ट आईडी होता है क्लास D को ब्रॉडकास्टिंग के लिए और क्लास E को रिसर्च और डेवलपमेंट के लिए उपयोग में लाया जाता है.

ज्ञान बढाए

स्पेशल addresses


ipv4 special addresses
Special addresses




नेटवर्क एड्रेस 0.0.0.0 एक प्लेसेहोडलर है जिसका मतलब कोई पर्टिकुलर एड्रेस नहीं और सभी आईपीवी4 एड्रेस लोकल मशीन पर ही है.

नेटवर्क एड्रेस 127.0.0.1 को लोकल एड्रेस या फिर लूपबैक एड्रेस भी कहते हैं इसका उपयोग Pentester किसी भी वेबसाइट या एप्लिकेशन को अपने लोकल सिस्टम पर टेस्ट करने के लिए करते हैं.

नेटवर्क एड्रेस 255.255.255.255 का उपयोग किसी भी नेटवर्क में मैसेज को ब्रॉडकास्ट करने के लिए किया जाता है जिससे कोई भी मेसेज सभी लोग एक साथ रिसीव कर सकते है.

आईपी एड्रेस में हर एक क्लास में कुछ प्राइवेट आईपी होती है जिनका उपयोग हम अपने लोकल एरिया नेटवर्क में कर सकते हैं पर इन प्राइवेट आईपी की मदद से हम इंटरनेट नहीं surf कर सकते जब तक कि हमारे पास एक पब्लिक आईपी ना हो .

1 Comments

  1. Maine bhi apni website par iske baare me bataya hai aap bhi check kare aur mujhe bataye apko meri post kaisi lagi. Mujhe apke dwara di gai jankari pasand ai. check my post

    ReplyDelete

Post a Comment

Previous Post Next Post